न्यायालय बना शिक्षा का मंदिर,पीपल के पेड़ पर हजारों फांसी पर झूले

फर्रुखाबाद-शहर के मोहल्ला नई बस्ती में अंग्रेजी शासन काल मे कोर्ट हुआ करता था।जिसमे जिले से लेकर अन्य जनपदों के क्रांतिकारियों को फाँसी की सजा सुनाने के बाद कोर्ट के खड़े पीपल के पेड़ पर लटकाकर उनको मौत की नींद सुला दिया जाता था।अंग्रेजी हुकूमत के समय इस कोर्ट में किसी प्रकार से दया की उम्मीद नही की जाती थी।जिस समय देश की आजादी के जिले के क्रांतिकारी अग्रेजो के खिलाफ हर मोड़ पर उनको लोहा मनवा रहे थे।

वही अंग्रेजी पुलिस अपने पैसो की बदौलत गरीबो से क्रांतिकारियों को पकड़ने के लिए पैसों के बदले जानकारी हासिल करते थे लेकिन जो देश भक्त हुआ करते थे वह पैसा लेने बाद भी अग्रेजो को मारने में क्रांतिकारियों की मदद किया करते थे।जब यह जानकारी अंग्रेजी हुकूमत को हो जाती थी तो वह उन लोगो को पकड़कर फांसी पर लटका दिया करते थे।करीब सौ साल पहले इस कोर्ट के कैम्पस में खड़े पीपल के पेड़ में एक साथ हजारो क्रांतिकारियों को फाँसी पर लटका दिया गया था।

आज वह पीपल का पेड़ सूख गया उसके साथ ही साथ काफी पुराना होने की बजह से बीच से टूट गया है।केवल उसकी जड़ ही बची है।वह इस अंग्रेजी कोर्ट में भारत सरकार ने उसमे सरकारी स्कूल खोल दिया है।जिस इमारत में देश भक्तो को सजा सुनाई जाती थी आज इस आजाद देश मे उसमे छात्र बैठ कर शिक्षा प्राप्त कर रहे है।भारत सरकार हो उत्तर प्रदेश सरकार ने उस इमारत का रंग नही बदला बैसा ही बना हुआ है।लेकिन सरकारी स्कूल के शिक्षकों से जब बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने इस कॉलेज के इतिहास के बारे में बताने से बना कर दिया।जब शिक्षक ही इस आजादी की गवाह इमारत के बारे में नही जानते तो छात्रों को क्या बताते होंगे।उन्हें सिर्फ इतना पता है कि यह राजकीय इंटर कालेज है उसके अलाबा कुछ नही है।यदि इसी प्रकार लोग देश के लिए मर मिटने वाले लोगो युवा पीढ़ी भूलती चली जायेगी
रविन्द्र कुमार भदौरिया का कहना है कि आज के समय मे कोई युबा अपने इतिहास को जानने की कोशिश नही करता है।दूसरी तरफ बहुत कम स्थान है जिनको सरकार ने अपने काम मे लिया हो।

सुरेन्द्र पांडेय ने बताया कि हम लोग अपनी धरोहर को अपने आप खत्म करने में लगे हुए है किसी को देश की चिंता नही अपनी दिखाई देती है। 

अनुराग पांडेय ने बताया की युबा पीढ़ी को वर्तमान समय मे अपनी आजादी के जो स्थान है उनको बताना पड़ेगा क्योकि स्कूलों में केवल पढाई होती है।हर प्रकार से जानकारी नही दी जाती है।

Share
LATEST NEWS
महाभारतकालीन पांडेश्वरनाथ मंदिर सावन के सोमवार को मंदिर बंद रखने का निर्णय गुरु पूर्णिमा पर गंगा में लगाई हजारो भक्तो ने डुबकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए डाइट में शामिल करें ये 10 चीजें, इन बीमारियों में भी कारगर यूपी में कोरोना के 772 नए मामले, कुल संख्या 26 हजार के पार, अबतक 773 की मौत साबन का महीना शुरू होंने से पूर्व कोरोना के संकट से श्रद्धालुओं को बचाने के लिए जिला प्रशासन ने तैयारी की शुरू यूपी में अब तक 930 टीचर बर्खास्त, 1427 बने फर्जी डिग्री से टीचर 231 ग्राम पंचायतों बारिश से पहले 600 तालाब निर्माण कार्य शुरू ट्रांसपोर्ट भाड़ा और सिंचाई महंगी होनें से सब्जियों ने बिगाड़ा रसोई का बजट नया लर्निंग डीएल बनवाना है पढ़िए रिपोर्ट, इस तारीख से शुरू होगा आवेदन कोरोना वैक्सीन का 11 शहरों में होगा ट्रॉयल , 15 अगस्त तक लांच करने की तैयारी
फर्रुखाबाद, टोटल मरीज 195 डिस्चार्ज कोरोना मरीज 116 कोरोना ऐक्टिव संख्या 72 कोरोना मरीज की मौत 07