बस हादसे में एक परिवार के 5 लोगों की मौत परिजनों में मचा कोहराम – video

कन्नौज के छिबरामऊ में बस और ट्रक की भीषण के बाद डबल डेकर बस में भीषण आग लग गयी|जिसके बाद उसमे मरने वाले लोगों का सही आंकड़ा किसी के पास भी ठीक से नही है| केबल जले हुए शव ही दिखाई दे रहे है| उसी बस में कमालगंज के एक ही परिवार के पांच लोग सबार थे जिनका भी अभी तक पता नही चला है| उनके गाँव में मातम पसर गया है|बस हादसे के बाद पिता ने अपने मासूम बेटे की जान बचाने खातिर बस का शीशा सिर पटककर तोड़ा और अपनी और बेटे की जान बचायी| गंभीर रूप से घायल पिता का उपचार चल रहा है|

कमालगंज थाना क्षेत्र के ग्राम उगरापुर निवासी 48 वर्षीय लईक पुत्र मो० ऊमर जयपुर के सागानेर में वाहनों की डेंट-पेंट कार्य करते है| उन्हें पथरी की शिकायत थी तो लईक बीते दस दिन पूर्व अपनी गाँव दवा कराने के लिए आये थे| मिली जानकारी के मुताबिक बीते शुक्रवार देर शाम वह रजीपुर से अपनी पत्नी 48 वर्षीय शाहिदा बेगम, 13 वर्षीय पुत्री सादिया, 11 वर्षीय पुत्र शान, 9 वर्षीय सैफ के साथ बस में सबार हुए|यही बस कन्नौज के छिबरामऊ में ट्रक से भीषण के बाद आग का गोला बन गयी| जिसके बाद लईक के परिजनों को जानकारी हुई|

लईक का एक भाई विकास खंड कमालगंज के प्राथमिक विद्यालय करीमगंज में अध्यापक है| दूसरा भाई नफीस भी जयपुर में ही रहता है| लईक व उसके परिवार का अभी तक पता नही चला है|थाना कमालगंज के ग्राम उगरापुर निवासी छम्मी लाल जयपुर में सिलाई का कार्य करता है |बीते दिन वह भी रजीपुर से विमल बस सर्विस की बस में सबार हुआ| उसके साथ उसका 8 वर्षीय पुत्र सौरभ भी था| हादसे की दिल दहला देनें वाली कहानी बता रहा सौरभ डरा हुआ है|

उसने बताया कि अचानक तेज आबाज के साथ बस की टक्कर हुई और बस में अँधेरा छा गया| बस में भीतर चीखपुकार मच गयी|अचानक बस में भीतर धूंआ भरने लगा और आग लग गयी| उसके पिता छम्मी लाल नें पहले बस की खिड़की के शीशे में हाथ मारे जब शीशा नही टूटा तो अपना सिर कई बार शीशे में मारा जिससे शीशा टूट गया और पिता लहुलुहान हो गये| उन्होंने सौरभ को नीचे लटकाया और उसी खिड़की से खुद भी बाहर निकले| सौरभ सकुशल घर आ गया लेकिन उसके पिता का तिर्वा में इलाज चल रहा है|

Share
LATEST NEWS