अनलॉक-02 में आलू-प्‍याज की कीमतों में उछाल

अनलॉक-02 में कई सामान आवश्यक वस्तु की श्रेणी से बाहर हो गए हैं जिसका खास असर आटा, मैदा, तेल पर नहीं है। कारोबारी इसके पीछे की वजह रेस्टोरेंट व होटलों के पूरी क्षमता से न चलने और सार्वजनिक कार्यक्रमों पर बंदिश को मान रहे हैं। वहीं आलू-प्याज और टमाटर आदि की कीमतों में काफी तेजी देखी जा रही है। लॉकडाउन से अनलॉक-02 में आलू-प्याज की कीमतों में 300 से 700 रुपये प्रति कुंतल का उछाल आया है। आटा, दाल से लेकर सरसों के तेल आदि में खास अंतर नहीं दिख रहा है। 

लॉकडाउन में काला बाजारी और जमाखोरी की आशंकाओं को देखते हुए सरकार ने आलू, प्याज, टमाटर के साथ ही गेहूं, आटा, अरहर दाल, चना दाल, सरसों तेल, रिफाइंड तेल, नमक, चायपत्ती जैसी रोजमर्रा की वस्तुओं को 30 जून तक आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में रखा था। फुटकर मार्केट में भले ही कुछ वस्तुओं पर मुनाफाखोरी हुई, लेकिन थोक मंडी की कीमतों पर कड़ाई का असर दिखा। अब ये वस्तुएं आवश्यक वस्तु की श्रेणी से बाहर आ गई हैं। 

उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष मदन गुप्ता कहते हैं कि किसी भी वस्तु की कीमत डिमांड और सप्लाई पर निर्भर करती हैं। लॉकडाउन से लेकर अभी तक गरीबों को गेंहू, चावल से लेकर चना दिया जा रहा है। जिससे खुले मार्केट में खाद्यान्न की कीमतें स्थिर हैं। वहीं चीनी की मांग होटल-रेस्टोरेंट का संचालन पूरी क्षमता से न होने से कम है। इसलिए कीमतों में खास बढ़ोत्तरी नहीं है। 

गल्ला व्यापारी अनंत गुप्ता कहते हैं कि आटा, दाल से लेकर मैदा आदि की कीमतों में लॉकडाउन की तुलना में हल्की गिरावट ही है। सिर्फ सरसों के तेल में मामूली बढ़त है। वैसे भी सावन का महीना खाद्यान के व्यापार के लिए फीका रहता है। हरी सब्जियां मार्केट से अब गायब हो रही है, ऐसे में दाल की मांग बढ़ेगी। 

आलू-प्याज, टमाटर की कीमतें बढ़ीं
थोक मंडी से लेकर फुटकर बाजारों में आलू-प्याज और टमाटर की कीमतों में बढ़ोत्तरी दिख रही है। आलू-प्याज के थोक कारोबारी फिरोज अहमद राइनी कहते हैं कि अनलॉक-02 में आलू-प्याज की मांग बढ़ी है। लॉकडाउन की तुलना में प्याज की कीमतों में 250 से 300 रुपये की बढ़ोत्तरी है। आलू की कीमतें भी 400 से 600 रुपये तक बढ़ी हैं। लॉकडाउन के चलते आलू कोल्ड स्टोरेज में नहीं रखे जा सके हैं। ऐसे में आने वाले दिनों में कीमतें और बढ़ेंगी। फुटकर सब्जी विक्रेता विनोद दुबे का कहना है कि मंडी में लोकल सब्जियों की आवक कम है जिससे लौकी, नेनुआ, करैला, कद्दू, परवल, गोभी की कीमतें दोगुने तक बढ़ गई है। सर्वाधिक असर टमाटर की कीमतों पर है। लोकल टमाटर अमरोहा और बाराबंकी का आता है। अब नासिक और बंगलुरू से टमाटर आ रहा है। 

खाद्यान्न     लॉकडाउन (थोक कीमतें)    अनलॉक 02 (थोक कीमतें)                    वर्तमान में फुटकर कीमत
आटा-           2500 से 2600 प्रति कुंतल             2200 से 2300 कुंतल                      2600 से 3200 रुपये प्रति कुंतल
अरहर दाल-     8500 से 9500 रुपये प्रति कुंतल       7800 से 8800 कुंतल                      8500 से 9500 रुपये प्रति कुंतल
चीनी-           3400 रुपये प्रति कुंतल                   3600-3650 रुपये प्रति कुंतल              40 रुपये प्रति किलो
मैदा-             2200 प्रति कुंतल                           2250 कुंतल                               30 रुपये प्रति किलो
सरसो तेल-       109-115 प्रति लीटर                  115-125 रुपये प्रति लीटर                     120-130 रुपये प्रति लीटर
रिफाइंड तेल-      95-110 प्रति लीटर                      90 से 110 रुपये प्रति लीटर                 95 से 115 रुपये प्रति लीटर

सब्जी          लॉकडाउन (थोक कीमतें)                  अनलॉक 02 (थोक कीमतें)      वर्तमान में फुटकर कीमत
आलू-           1700 से 1900 प्रति कुंतल             2300 से 2500 कुंतल                      28 से 30 रुपये प्रति किलो
प्याज-       1000 से 1200 रुपये प्रति कुंतल       1300 से 1400 कुंतल                          20 रुपये प्रति किलो
टमाटर-        20-22 रुपये किलो                   40-42 रुपये प्रति किलो                          60-70 रुपये प्रति किलो
परवल-          20 से 22 रुपये किलो                25 से 30 रुपये प्रति किलो                      40 से 50 रुपये प्रति किलो

Share
LATEST NEWS