लॉक डाउन में मेंथा की खेती करने वाले किसानों को घाटा

फर्रुखाबाद जनपद में कोरोना महामारी के चलते मैथा कि फसल पैदा करने वाले किसान बहुत परेशान है।पिपरमेंट तेल की मांग कम होने से किसानो को उनकी फसल का बाजिब मूल्य नही मिल पा रहा है।जिसकी वजह से किसान घाटे में अपनी फसल बेचने को मजबूर हो रहे है। उन्हें आर्थिक संकटो का सामना करना पड़ रहा है।


मेंथा की फसल तीन महीने में तैयार होती है उसे काटकर उससे उसका तेल निकलवाना बहुत जरूरी होता है।लेकिन लॉक डाउन के चलते सभी तेल निकालने वाले प्लांट बन्द थे।तो समय पर फसल का तेल नही निकाला जा सका। साथ पिछले वर्ष की अपेछा पिपरमेंट तेल की मांग कम होने से पिपरमेंट तेल 9 सौ रुपये किलो में बिक रहा है। 2019 में बाजार में 12 सौ रुपये से लेकर 24 सौ रुपये तक बिका था। किसान मेंथा एक ट्राली लेकर जब प्लांट पर जाता तेल निकलवाने के लिए तो उसे दो हजार का भुगतान करना होता है।उसके बाद वह तेल को लेकर जिले के आस पास की मंडियों में बेचता है।यह तेल जब दूसरे राज्यो में जाता था तो उसकी कीमत अधिक मिलती थी।लेकिन ऐसा नही हो पा रहा है।वही प्लांट चलाने वाले भी परेशान है उनका कहना है कि किसान समय से फसल काटकर नही ला सका उसके बाद प्लांट चलाने का आदेश नही मिला था।जिससे जो आमदनी होनी चाहिए थी वह नही हो सकी।किसान की मेंथा की फसल में जिस प्रकार से तेल निकलना चाहिए वह नही निकल पा रहा है।जिस कारण फसल पर पर किया गया खर्चा पूरा नही हो पा रहा।


पिपरमेंट तेल का इस्तेमाल कई प्रकार से किया जाता है।चाहे वह ठंडी क्रीम हो या ठंडा तेल से लेकर तमाम प्रकार की बस्तुओं में प्रयोग किया जा रहा है।लेकिन कोरोना वायरस के चलते ठंडी बस्तुओं के इस्तेमाल करने को डॉक्टरों द्वारा मना किये जाने बाद से इस कारोबार पर भी असर दिखाई देने लगा है।देखना यह होगा कि आने वाले समय मे किसान मेंथा की फसल को अपने खेतों में पैदा करता है।या नही क्योकि यदि किसान को उसकी लागत का बाजिब दाम नही मिलता है।तो वह किसान उस फसल को खेतों में करना बंद कर देता है या फिर उसकी पैदाइस को कम कर देता है।वर्तमान के माहौल को देखते हुए यह कहना मुश्किल होगा कि आने वाला वर्ष कैसा होगा

Share
LATEST NEWS
खरा खेल फर्रुखाबादी भाग-5- (सैलानी) लेखक-अनिल मिश्र -एडवोकेट किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने इटावा-बरेली हाई-वे किया जाम जंगली जानवर के निशानों से किसानों में दहशत का माहौल आपदा में नहीं ,हर साल सड़क हादसों में होती है सबसे ज्यादा मौतें फर्रुखाबाद में कोरोना का कहर , सभासद व महिला की मौत, 30 और संक्रमित शमसाबाद व् हजियांपुर उपकेंद्र क्षेत्र से एक दर्जन से अधिक ट्रांसफार्मर चोरी 50 लाख का घोटाला,प्रधान ने किया फर्जी बिलो पर भुगतान महिलाओं व बच्चियों के गायब होने के मामले में गुमशुदगी की सूचना दर्ज होने के बजाय दर्जहो एफ आईआर -ADG नकली बीज बिक्री करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही के निर्देश- लाखन सिंह राजपूत 2017 में हुई भर्ती में चयनित ग्राम पंचायत अधिकारी की ट्रिपल सी का प्रमाण पत्र सत्यापन में फर्जी