आखिर क्या है भद्रा काल, इसमें क्यों नहीं बंधवाते हैं राखी

रक्षाबंधन का त्योहार श्रावण मास में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसे सलूनों भी कहा जाता है। रक्षाबंधन में मुहुर्त का विशेष महत्व होता है। इसी के साथ राखी बंधवाते समय अगर किसी चीज का विशेष ख्याल रखा जाता है तो वह है भद्रा काल। शास्त्रों के अनुसार राहुकाल और भद्रा के समय शुभकार्य नहीं किये जाते हैं। इसी के चलते भद्रा के समय राखी भी नहीं बंधवाने की पौराणिक मान्यता है।

बताया जाता है कि लंकापति रावण ने अपनी बहन से भद्रा के दौरान ही राखी बंधवाई थी जिसके चलते ही उसका विनाश हो गया था। इसलिए इस समय को छोड़कर रक्षाबंधन के दिन राखी बंधवाने का चलन है। वहीं कुछ लोगों का मत यह भी है कि भद्रा शनि महाराज की बहन है। उन्हें ब्रह्माजी से श्राप मिला था कि जो भी व्यक्ति भद्रा में शुभ कार्य करेगा उसका परिणाम अशुभ ही होगा। जिसके चलते यह भद्रा के समय राखी नहीं बंधवाई जाती है। भद्रा के साथ ही राहुकाल में भी राखी नहीं बंधवाई जाती है।

क्या है मुहुर्त
सुबह 9 बजे से 10.22 बजे तक।
दोपहर 1.40 बजे से सायं 6.37 बजे तक।

Share
LATEST NEWS
खरा खेल फर्रुखाबादी भाग-5- (सैलानी) लेखक-अनिल मिश्र -एडवोकेट किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने इटावा-बरेली हाई-वे किया जाम जंगली जानवर के निशानों से किसानों में दहशत का माहौल आपदा में नहीं ,हर साल सड़क हादसों में होती है सबसे ज्यादा मौतें फर्रुखाबाद में कोरोना का कहर , सभासद व महिला की मौत, 30 और संक्रमित शमसाबाद व् हजियांपुर उपकेंद्र क्षेत्र से एक दर्जन से अधिक ट्रांसफार्मर चोरी 50 लाख का घोटाला,प्रधान ने किया फर्जी बिलो पर भुगतान महिलाओं व बच्चियों के गायब होने के मामले में गुमशुदगी की सूचना दर्ज होने के बजाय दर्जहो एफ आईआर -ADG नकली बीज बिक्री करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही के निर्देश- लाखन सिंह राजपूत 2017 में हुई भर्ती में चयनित ग्राम पंचायत अधिकारी की ट्रिपल सी का प्रमाण पत्र सत्यापन में फर्जी