फर्रुखाबादी आम पर इस बार संकट के बादल-video


यूपी के फर्रुखाबाद जिले में फर्रुखाबादी आम पर इस बार संकट के बादल मंडरा रहे हैं. होली के ठीक कुछ दिन पहले यहां आम के बागों पर हॉपर नामक कीट ने हमला कर दिया. इस बार आम के बागों में अच्छे बौर आने के बाद बागवानों के चेहरों पर खुशी दिख रही थी. वहीं अब बागवान हॉपर कीट से परेशान हैं.

वीओ- जिले में हॉपर कीट के हमले से आम की बागवानी चौपट होने की कगार पर है. इस बार आम के बागों में अच्छे बौर आने के बाद बागवानों के चेहरों पर खुशी दिखाई दे रही थी. वहीं हॉपर कीट के हमले से अब बागवान परेशान हैं. सफेद रंग के महीन भुनगों से निपटने के लिए बागवान कीटनाशक के छिड़काव में जुट गए हैं, लेकिन इन भुनगों पर दवा का असर नहीं हो रहा है.
आम की बागवानी पर कीटों का हमला.आम के बौर हुए काले फर्रुखाबादी आम पर इस बार संकट के बादल मंडरा रहे हैं. होली के ठीक कुछ दिन पहले यहां बागों पर हॉपर नामक कीट ने हमला कर दिया. बागवान जब तक कुछ समझ पाते तब तक लसी रोग का भी हमला हो गया.

एक साथ दो बीमारियों से बागों में फसल चौपट होने के कगार पर है. बागों में लसी रोग के कारण पेड़ की नई कोपल नष्ट होती दिखाई पड़ रही हैं. साथ ही बौर काले पड़ गए हैं.कोपलों पर लगे कीट.कोपलों पर लगे कीट.पेड़ों के तने पर बागवान बांध रहे पन्नी बागवान आनंद और हरपाल ने बताया कि फर्रुखाबाद में कई जगहों पर बड़े पैमाने पर आम के बाग हैं. हजारों बीघा आम की फसल कीटों के लगने से बर्बाद हो रही है. हॉपर भुनगे के हमले के बाद दवाओं का छिड़काव किया गया, लेकिन सारी दवाएं बेअसर साबित हुईं. यह कीट जिस पेड़ पर हमला करता है, उस पर थोड़ी ही देर में पेड़ का बौर काला पड़ जाता है. बागवानों ने बताया कि आम के तने पर पन्नी बांध देते हैं, जिससे महीन भुनगे पेड़ के ऊपर न चढ़ सकें.

कीटों से बचाव के लिए पन्नी बांधते बागवान.कीटों से बचाव के लिए पन्नी बांधते बागवान जिला उद्यान अधिकारी आरएन वर्मा ने  बताया की मैंगो हॉपर और मिली बग आम में लगने वाले कीड़े हैं. इनसे बचाव के लिए नवंबर-दिसंबर में ही पेड़ों पर कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करना चाहिए. एक बार कीटों के सक्रिय होने पर इन पर नियंत्रण थोड़ा कठिन हो जाता है. इसके लिए किसानों को इमिडाइक्लोप्रिड या डाईमेथाएड की 1.5 से 2 एमल दवा को 1 लीटर पानी में मिलाकर पेड़ों पर छिड़काव करना चाहिए. एक दो बार छिड़काव करने से कीट मर जाते हैं. इसके अलावा लसा या खर्रा रोग से बचाव को कार्बेंडाजिम या कॉपर ऑक्सिक्लोराइड को 2 एमल प्रति लीटर की दर से पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए.

Share
LATEST NEWS
जिन्दगी की डोर में मरीजों को आक्सीजन सिलेंडर का सहारा मुख्यमंत्री के आदेशों की स्वास्थय बिभाग खुले आम उड़ा रहा धज्जिया स्वस्थ विभाग की लपरवाही के चलते एक मरीज की जान पर बन आई-वीडियो सरकारी आंकड़ों और कागजो में तो सब कुछ ठीक ,कोरोना मरीज वेंटिलेटर नहीं मिलने के कारण अभिनेत्री प्रिया बाजपेई के भाई की मौत "प्रेस के मित्रों का जीवन --बाधाएं एवम कठिनाइयां--एक विहंगावलोकन" गुमनामी में जा रहे घड़े का कोरोना ने सम्मान लौटाया-वीडियो मतगणना स्थल पर शोसल डिस्टेंसिंग की जमकर उड़ाई जा रही धज्जियां ,पहले चक्र की मतगणना शुरू डायरिया पीडित बच्चे के पिता को डाक्टर ने किया प्रताड़ित महामारी को अनदेखा कर रैली का किया आयोजन,video