गांव में करोड़ो खर्च ,विकास से कोसो दूर ,बिजली लाइन बनी सफेद हाथी

फर्रुखाबाद- गांव में विकास के लिए सरकार द्वारा लाखो रुपये का बजट दिया गया लेकिन वह विकास केवल कागजो पर ही दिखाई दे रहा है गांव में नहीं। गांव में जिन गरीबो को आवास मिलने चाहिए थे।उनको न देकर जिनके पक्के मकान बने हुए है उनको दे दिए गए। गांव में बिजली का मकड़ाजाल फैला हुआ है।

हम बात कर रहे है फर्रुखाबाद के विकास खण्ड कमालगंज क्षेत्र के गांव भड़ौसा की। इस इस गांव में 8 हजार वोटर है।गांव की कुल जनसंख्या लगभग 20 हजार है।साथ ही यहां का शिक्षा का स्तर 20 प्रतिशत है।गांव में लगभग 100 लोग ऐसे थे जिनके पास रहने के लिए छत नही है।जिसका कारण की गांव में पक्षपात की राजनीति चल रही है। गांव में जीविका का मुख्य सोत्र खेती और लघु उघोग है । गांव का हाल जानने के लिए हमारी टीम जब गांव पहुंची तो देखा की गलियों से लेकर नालिया व गरीबो को किस प्रकार से सरकारी योजनाओं का लाभ दिया।


गांव में जिन गरीबो को आवास मिलने चाहिए थे।उनको न देकर जिनके पक्के मकान बने हुए है उनको दे दिए गए और उनको पात्र घोषित करा दिया गया है।गांव में पानी के निकास के लिए चार फुट गहरा नाला बनाया गया था।लेकिन देखने पर लगता है कि उस नाले की कई वर्षों से सफाई ही नही कराई गया है।वह गांव में जो बच्चों के लिए खेलकूद का मैदान बनाया गया उसके पास की सड़क में चकरोड है या चकरोड में सड़क है यह कहना मुश्किल है।वही गांव की नालिया टूटी पड़ी है।जिनका पानी गलियों में फैल रहा है।जिससे गन्दगी फैलने से बीमारिया पैदा हो रही है।गांव के मजरा सलमापुर से छिबरामऊ जाने वाले मार्ग पर नालियों का पानी भरा हुआ है।पूरे गांव में तीन साल पहले बिजली की बांच लाइन डाली गई है। एक माह चलने के बाद बिजली की लाइन बन्द पड़ी हुई है।गांव के लोग 100 से लेकर 500 मीटर केविल लाकर अपने घरों में बिजली जला रहे है।

ज्यादातर लोगों के घरों में मीटर लगे हुए है।लेकिन वह सफेद हाथी सावित हो रहे है।क्योंकि उनके माध्यम से बिजली का प्रयोग नही किया जा रहा है। यह ग्राम सभा थाना जहानगंज क्षेत्र की अतिसंवेदनशील है।क्योंकि त्रिस्तरीय चुनाव में इस ग्राम सभा मे हर पांच वर्ष में एक बार खून खराबा होता है।गांव के ही रहने वाले बसरूद्दीन का कहना है कि गांव में मुह देख कर विकास किया गया है।जो पात्र है उनको कोई भी लाभ नही दिया है।गांव में गन्दगी का अंबार लगा हुआ है।गांव में सफाई नाम मात्र की नही है।लेकिन गांव में विकास तो नही कराया लेकिन दोबारा चुनाव मैदान जनता से वोट मांग रहे है।

Share
LATEST NEWS
जिन्दगी की डोर में मरीजों को आक्सीजन सिलेंडर का सहारा मुख्यमंत्री के आदेशों की स्वास्थय बिभाग खुले आम उड़ा रहा धज्जिया स्वस्थ विभाग की लपरवाही के चलते एक मरीज की जान पर बन आई-वीडियो सरकारी आंकड़ों और कागजो में तो सब कुछ ठीक ,कोरोना मरीज वेंटिलेटर नहीं मिलने के कारण अभिनेत्री प्रिया बाजपेई के भाई की मौत "प्रेस के मित्रों का जीवन --बाधाएं एवम कठिनाइयां--एक विहंगावलोकन" गुमनामी में जा रहे घड़े का कोरोना ने सम्मान लौटाया-वीडियो मतगणना स्थल पर शोसल डिस्टेंसिंग की जमकर उड़ाई जा रही धज्जियां ,पहले चक्र की मतगणना शुरू डायरिया पीडित बच्चे के पिता को डाक्टर ने किया प्रताड़ित महामारी को अनदेखा कर रैली का किया आयोजन,video