अस्पताल नही बल्कि बना शराबियो का अड्डा-video

सरकार ने गरीबों के सुविधाओं के लिए ग्राम स्तर पर सीएचसी पीएचसी व एनम सेंटरो का निर्माण कराया था लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह उठता है की कोरोना काल के समय में भी गरीबों को व ग्रामीणों को इन अस्पतालों से सुविधाएं नहीं मिली ग्रामीण दवा लेने के लिए इधर-उधर प्राइवेट डॉक्टर झोलाछाप डॉक्टर मोटी रकम देकर इलाज करा रहे है। फर्रुखाबाद में सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था हो की पोल खुलती नजर आ रही है तो वही अस्पताल मे कब्जा कर शराबियो का अड्डा बना रखा है


बीओ – विकासखंड मोहम्मदाबाद क्षेत्र के पिपर गांव स्वास्थ्य केंद्र का जब हमारे चैनल की टीम हाल जानने के लिए पहुंची तो वहा देखा कि लाखों की लागत से बना स्वास्थ्य केंद्र बदहाली का शिकार बना हुआ है जहां पर डॉक्टरों के रहने के लिए मरीज भर्ती करने के लिए एक बड़ा स्वास्थ्य केन्द्र बनाया गया है लेकिन वहां पर केवल एक हाल में मरीजों को दवा दी जाती है कोई भी मरीज वहां पर भर्ती नहीं किया जाता लोग अपना इलाज कराने के लिए प्राइवेट डॉक्टर झोलाछाप से इलाज कराने को मजबूर होते हैं जब पूरे परिसर का हाल जानना चाहा तो देखा की पूरी तरीके से बदहाली का शिकार बनाया गया है जहां पर डॉक्टरों के लिए और मरीज भर्ती करने के लिए रूम बनाए गए उनमे लोगों में भूसा अनाज व जानबर बाध कर कब्जा कर रखा है तो वहीं पर कमरों में लोग अपनी बकरियों को बांध रहे हैं और अस्पताल के अंदर बडी बडी घास जमी हुई है

एक कमरे मे बडी मात्रा ग्लूकोज चढाने बाला पाइप दस्ताने बजन नापने की तीन मशीने और भारी मात्रा मे दबाई कबाड मे पडी मिली जबकि इस अस्पताल में पानी की टंकी से लेकर सारी सुविधाओं से युक्त अस्पताल को बनाया गया था इसको भाजपा सरकार की नाकामी कहे य सिस्टम की लाचारी जहां पर गरीब असहाय ग्रामीणों के लिए अस्पतालों का निर्माण कराया गया वहीं उन लोगों को किसी प्रकार की कोई सुविधाएं नहीं मिल पा रही है वही अस्पताल में लोग कब्जा कर करीब तीन परिबार रह रहे हैं

तो वही ग्रामीण दवा लेने के लिए इधर उधर प्राइवेट डाक्टरो व झोला छापो से इलाज कराने को मजबूर होते है सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर पोल खुलती नजर आ रही है। इसको सरकार की नाकामी कहें या सिस्टम की लाचारी जहां पर गरीब असाहे ग्रामीणों के लिए अस्पतालों का निर्माण कराया गया वही उन लोगों को किसी प्रकार की कोई शुभिधाए नहीं मिल पा रही वही अस्पताल में लोग कब्जा कर रहे हैं तो वही जब देखा गया आधा सैकडा से अधिक शराब की बोतले पडी मिली जिससे यह लग रहा था की यह अस्पताल नही बल्कि शराबियो का अड्डा बना हुआ है

Share
LATEST NEWS