लखीमपुर में खूनखराबे की घटना के बाद सियासी गलियारों में तूफान

लखीमपुर में खूनखराबे की घटना के बार सियासी गलियारों में तूफान खड़ा हो गया है। सभी विपक्षी दलों में घटना को लेकर उबाल है। सपा सुप्रीमों अखिलेश यादव के लखमीपुर खीरी मामले में गिरफ्तारी होनें के विरोध में सोमवार को सपाई आवास विकास स्थित लोहिया प्रतिमा पर धरनें पर बैठ गये| बाहर भारी पुलिस बल तैंनात कर दिया गया|कांग्रेसी सड़कों पर उतरे फतेहगढ़ के मुख्य रोड पर धरना प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ जोरदार ढंग से नारेबाजी की।

लखीमपुर हिंसा के मामले में जा रहे समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव को लखनऊ में हिरासत में ले लिया गया| जिसके विरोध में सपा जिलाध्यक्ष नदीम अहमद फारुखी,जिला महासचिव मंदीप यादव, निवर्तमान महानगर अध्यक्ष विजय यादव, प्रदेश प्रवक्ता अरविन्द गुप्ता, महेंद्र सिंह कटियार, उर्मिला राजपूत सरदार तोषित प्रीत, राघव दत्त मिश्रा, बंटी यादव आदि लोहिया प्रतिमा पर धरनें पर बैठ गये और जमकर नारेबाजी शुरू कर दी|सूचना पर पीएसी, सीओ कायमगंज सोहराब आलम आदि मौके पर आ गये| सपाईयों से सरकार पर लोकतन्त्र की हत्या करनें के साथ ही सपा सुप्रीमों को गिरफ्तार करनें की कड़ी निंदा की|

फर्रुखाबाद में कांग्रेसी सड़कों पर उतरे फतेहगढ़ के मुख्य रोड पर धरना प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ जोरदार ढंग से नारेबाजी की मुख्य रोड पर धरना दिए जाने से पुलिस की कांग्रेसियों से नोकझोंक हो गई पुलिस ने कांग्रेसियों को अपनी निगरानी में लिया और पुलिस लाइन लेकर चली गई ।फर्रुखाबाद में कांग्रेस के विरोध में २० ही कार्यकर्ता शामिल हो सके

Share