किसानों को नहीं मिल रही सोसाइटी से खाद जिले में खाद न मिलने से किसान परेशान

फर्रुखाबाद में आलू की फसल के लिए खेतों को तैयार करने का समय है और किसान अपने खेतों को फसल की तैयारी में जुटा है।लेकिन किसान के सामने सबसे बडी समस्या खाद आपूर्ति की है किसान को समय पर एनपीके खाद उपलब्ध नही हो पा रही।पीसीएफ के गोदामो पर खाद का भंडार है लेकिन खाद क्रय केंद्रों तक समय से नही पहुच रही जिस कारण से किसानों को खाद समय से उपलब्ध नही हो पा रही है।क्रय केन्द्रो पर आए किसानों ने बताया कि इस समय खेतो में आलू बुवाई का समय है लेकिन खाद समय पर नही मिल पा रही है जिस के से फसल बुवाई में देरी हो रही है।वहीं क्रय केंद्र संचालको का कहना है कि हमको गोदाम से जितना स्टॉक मिल पा रहा है वह हम दिन प्रति दिन बांट रहे है।गीदम से स्टॉक आने में देरी हो रही है जिस कारण से किसानों को खाद के लिए दिक्कत पैदा हो रही है।वहीं आला अधिकारियों की कढ़ाई के बाद खाद गोदामो से क्रय केंद्रों में भेजने में तेज़ी आई है।

पीसीएफ के जिला प्रबंधक की मनमानी के चलते सहकारी समितियों और इफको विक्रय केंद्रों पर खाद की आपूर्ति न किए जाने की शिकायतों लोग लगातार कर रहे है। दरअसल आलू जनपद की प्रमुख फसल है। आलू की बोवाई का सीजन शुरू होने से किसानों को इस समय डीएपी और एनपीके जैसे फास्फेटिक खादों की जरूरत है। सहकारी समितियों पर खाद नहीं पहुंच रही है। उधर निजी कंपनियां भी आपूर्ति सीमित मात्रा में कम कर रही हैं। इसके चलते बाजार में इन उर्वरकों की कालाबाजारी हो रही है। इधर जिला कृषि अधिकारी, सहायक निबंधक सहकारी समितियां और जिला प्रबंधक इफको की ओर से भी लगातार जिलाधिकारी से समितियों को खाद न भेजने की शिकायत की गई थी।
जिलाधिकारी ने दो दिन पूर्व पीसीएफ प्रबंधक को बुलाकर दो दिन में खाद समितियों को भेजने के आदेश दिए थे। पड़ोसी जनपद कन्नौज में भंडार प्रभारी की मृत्यु के बाद अभी तक चार्ज हस्तांतरित न हो पाने से वहां बफर गोदामों में ताले पड़े हैं। इसके चलते जनपद कन्नौज की सीमा से सटे क्षेत्रों से काफी मात्रा में खाद ब्लैक में वहां भेजी जा रही है। खाद को लेकर किसानों ने बताई किल्लत अधिकारियों ने कहा कि पर्याप्त खाद है।
बाइट-किसान
बाइट – क्रय केंद्र संचालक बाइट – गोदाम अधिकारी

Share