गंगा की धार का रुख बरेली हाईवे की ओर -बरेली हाईवे के कटने की आशंका-देखे वीडियो

अमृतपुर : गंगा का जलस्तर बढ़ने से तटवर्ती गांव हरसिंहपुर कायस्थ व तीसराम की मड़ैया में बाढ़ का पानी भर गया है। झोपड़ियों में पानी भर जाने से ग्रामीणों ने सामान निकालकर ऊंचे स्थानों पर डेरा जमा लिया है। संपर्क मार्ग पर बाढ़ का पानी बहने से आवागमन बाधित हो गया है।

गंगा का जलस्तर 15 सेंटीमीटर बढ़कर चेतावनी बिदु के करीब 136.55 मीटर पर पहुंच गया है। गंगा का चेतावनी बिदु 136.60 मीटर पर दर्ज है। नरौरा बांध से गंगा में 48653 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। रामगंगा का जलस्तर 10 सेंटीमीटर घटकर 134.90 मीटर पर पहुंच गया है। खोह हरेली व रामनगर से रामगंगा में 4176 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है।

गंगा की बाढ़ का पानी हरसिंहपुर कायस्थ, ऊगरपुर व तीसराम की मड़ैया गांव में भर गया है। हरसिंहपुर कायस्थ गांव के सुखदेव, रामचंद्र, हेतराम, महाराम व नेकराम की झोपड़ियों में बाढ़ का पानी भर गया है। जिससे पीड़ित झोपड़ियों से सामान निकालकर ऊंचे स्थान पर पालीथिन के नीचे गुजर कर रहे हैं। गांव के संपर्क मार्ग पर बाढ़ का पानी तीन फिट बहने से आवागमन बाधित है। ग्रामीण बाढ़ के पानी से निकल रहे हैं। तीसराम की मड़ैया गांव के निकट कटान होने से ग्रामीण भयभीत हैं। गांव के निकट गंगा की धार का रुख बरेली हाईवे की ओर हो गया है। इससे बरेली हाईवे के कटने की आशंका है। प्राथमिक स्कूल का भवन धार की जद में है। रसोई घर पहले ही बह चुकी है। सिचाई विभाग ने स्कूल को कटने से बचाने के लिए बैंबू ब्रेसिग बनाई, लेकिन कटान नहीं रुक सका। गांव के मंजीत बताते हैं कि बैंबू ब्रेसिग तीन वर्ष से बनाई जा रही हैं, लेकिन कटान नहीं रुक सका। गांव के मकान भी गंगा की धार की जद में आने से ग्रामीण भयभीत हैं।

गंगा नदी का जलस्तर तेजी के साथ बढ़ रहा है। पानी जहां गौटिया गांव के करीब पहुंच गया है तो वहीं हरसिंहपुर कायस्थ गांव में पानी घुस गया है। यहां नदी की धार नजदीक आते देख ग्रामीण मकान तोड़ रहे हैं। मेहनत से बनाए गए मकान को तोड़ते ग्रामीणों के आंसू निकल रहे हैं। ग्रामीण नदी को लेकर खासे चिंतित हो रहे हैं। कहते हैं कि यदि इसी तरह से जलस्तर बढ़ता रहा तो बर्बाद हो जाएंगे। तीसराम की मड़ैया और हरसिंहपुर कायस्थ गांव के लोग पानी के बढ़ने से खासे दिक्कतों में हैं।

हरसिंहपुर कायस्थ में कमलेश का मकान नदी के निकट आ गया है। पक्के मकान को क मलेश व उनके परिजन तोड़ रहे हैं जिससे कि ईंटें सुरक्षित ठिकाने तक पहुंचाई जा सकें। वहीं मंझा की मड़ैया गांव के लोग नाव से निकलने को मजबूर हो रहे हैं। कंचनपुर सबलपुर, आशा की मड़ैया, उदयपुर गांव के नजदीक भी पानी पहुंच रहा है। जिस तरह से जलस्तर बढ़ रहा है यहां के लोग इससे खासे परेशान हैं। सुंदरपुर गांव के नजदीक भी पानी पहुंचने को है। तहसीलदार प्रदीप सिंह ने बताया कि बढ़ रहे जलस्तर पर नजर रखी जा रही है। राजस्व टीम पूरी तरह अलर्ट है।

Share
LATEST NEWS
अचानक बिगड़े मौसम के मिजाज के साथ हुई बारिश ने आम ,मूंगफली के लिए संजीवनी ,खरबूजों की काल बनी बारिश LOCKDOWN 5.0 के लिए जारी हुई नई गाइडलाइन, सरकार का नया आदेश सीडीओ ने डाॅ. अनार सिंह के मेडिकल काॅलेज में एल-2 फैसिलिटी का आईसीयू बार्ड तैयार करने के दिए निर्देश घर के बाहर जानवरों को चारा डालकर बापस जा रही महिला को शराबी बाइक सवरों ने कुचला कायमगंज चेयरमैन की दमनकारी नीतियों से तंग आकर पत्रकार प्रदीप गुप्ता ने खाया जहर शातिर अपराधियो से 1 किलो 400 ग्राम चरस बरामद कोविड-19 एल-1 सीएचसी बरौन में कमियां देख जिलाधिकारी का चढा पारा फर्रूखाबाद में कुल कोरोना पॉजिटिव केस — 33,डिस्चार्ज हुए — 18, एक्टिव केस — 15 प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी में जल्द ही 1942 गरीबों को मिलेगा अपना आशियाना एसपी ने पुलिस लाइन में कोविड-19 बचाओ में दिये दिशा-निर्देश
फर्रुखाबाद में नए मरीज 2 डिस्चार्ज कोरोना मरीज 18 कोरोना ऐक्टिव संख्या - 15 जिले में टोटल संख्या मरीज 33