नवरात्र‍ि (Navratri) के छठे दिन मां दुर्गा (Maa Durga) के स्‍वरूप माता कात्‍यायनी की पूजा-देखे वीडियो

नवरात्र‍ि (Navratri) के छठे दिन मां दुर्गा (Maa Durga) के स्‍वरूप माता कात्‍यायनी की पूजा की जाती है, जो कि इस बार 4 अक्टूबर को है. मान्‍यता है कि मां कात्‍यायनी (Maa Katyayani) की पूजा करने से शादी में आ रही बाधा दूर होती है और भगवान बृहस्‍पति प्रसन्‍न होकर विवाह का योग बनाते हैं. यह भी कहा जाता है कि अगर सच्‍चे मन से मां की पूजा की जाए तो वैवाहिक जीवन में सुख-शांति बनी रहती है. पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार माता कात्यायनी की उपासना से भक्‍त को अपने आप आज्ञा चक्र जाग्रति की सिद्धियां मिल जाती हैं. साथ ही वह इस लोक में स्थित रहकर भी अलौकिक तेज और प्रभाव से युक्त हो जाता है. मां कात्‍यायनी की उपासना से रोग, शोक, संताप और भय नष्‍ट हो जाते हैं.


कौन हैं मां कात्‍यायनी
मान्‍यता है कि महर्षि कात्‍यायन की तपस्‍या से प्रसन्‍न होकर आदिशक्ति ने उनकी पुत्री के रूप में जन्‍म लिया था. इसलिए उन्‍हें कात्‍यायनी कहा जाता है. मां कात्‍यायनी को ब्रज की अधिष्‍ठात्री देवी माना जाता है. पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार गोपियों ने श्रीकृष्‍ण को पति रूप में पाने के लिए यमुना नदी के तट पर मां कात्‍यायनी की ही पूजा की थी. कहते हैं क‍ि मां कात्‍यायनी ने ही अत्‍याचारी राक्षस महिषाषुर का वध कर तीनों लोकों को उसके आतंक से मुक्त कराया था.


मां कात्‍यायनी का रूप
मां कात्यायनी का स्वरूप अत्यंत चमकीला और भव्य है. इनकी चार भुजाएं हैं. मां कात्यायनी के दाहिनी तरफ का ऊपर वाला हाथ अभय मुद्रा में और नीचे वाला वरमुद्रा में है. बाईं तरफ के ऊपरवाले हाथ में तलवार और नीचे वाले हाथ में कमल-पुष्प सुशोभित है. मां कात्‍यायनी सिंह की सवारी करती हैं.

Share
LATEST NEWS
कार्डधारकों को राशन न देने पर दुकान निलंबित टेंपो से जान बचाने को कूदे युवक की करंट से मौत गंगा का जलस्तर चेतवानी बिंदु के करीब, पांच गांवों में घुसा पानी वीडीओ, स्वास्थ्य कर्मी और सिपाही निकले संक्रमित फर्रुखाबाद रहे चुके एसपी होंगे राष्ट्रपति पदक से सम्मानित,वर्तमान में है झांसी रेंज के IG, देश में सबसे अधिक कोरोना टेस्टिंग करने वाला राज्य बना उत्तर प्रदेश, बिजली चेकिग टीम ने 21 लोगों को बिजली चोरी करते पकड़ा पुलिस ने चोरी किये गये 20 मोबाइल सहित चोर को किया गिरफ्तार यूपी में कोरोना के 4537 नए मामले, बीते 24 घंटे में कोविड-19 से 50 लोगों की हुई मौत गंगा पहुंची चेतावनी बिंदु पास , खेतों में कटान से होने से गांव के लोग चिंतित