E-NAM योजना से जुड़े 1.65 करोड़ किसान, आप भी घर बैठे 585 मंडियों में बेच सकते हैं अपना सामान

नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) ने किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए शुरू की ऑनलाइन मंडी हिट हो गई है. सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, अभी तक देश के करीब पौने दो करोड़ किसान इस मंडी से जुड़ चुके हैं. इसका नाम राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना (E-NAM) है. आपको बता दें कि साल 2017 तक ई-मंडी से सिर्फ 17 हजार किसान ही जुड़े थे.

ई-नाम एक इलेक्ट्रॉनिक कृषि पोर्टल है. जो पूरे भारत में मौजूद एग्री प्रोडक्ट मार्केटिंग कमेटी को एक नेटवर्क में जोड़ने का काम करती है. इसका मकसद एग्रीकल्चर प्रोडक्ट के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक बाजार उपलब्ध करवाना है. इससे फायदे को देखते हुए किसान तेजी से इसके साथ जुड़ रहे हैं. नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट के जरिए कृषि उत्‍पादों का अधिक दाम मिलेगा तो 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी भी हो जाएगी.

इंटरनेट से जोड़ी गई हैं देश की 585 मंडियां-ई-नाम के तहत देश के विभिन्‍न राज्‍यों में स्थित कृषि उपज मंडी को इंटरनेट के जरिए जोड़ा गया है. इसका टारगेट यह है कि पूरा देश एक मंडी क्षेत्र बने. अगर गोरखपुर का कोई किसान अपनी उपज बिहार में बेचना चाहता है तो कृषि उपज को लाने-ले जाने और मार्केटिंग करना आसान हो गया है.

Leave a Reply

Share
LATEST NEWS
WhatsApp CityHalchal