एटीएम से नहीं निकलेंगे 100 के पुराने नोट, 2000 की पहले ही बंद हो चुकी है छपाई

एटीएम से 2000 रुपये के नोटों को हटाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। भारतीय स्टेट बैंक ने इसकी शुरुआत कर दी है। अगले चरण में अन्य बैंक भी यही व्यवस्था अपनाएंगे। यानी आने वाले समय में एटीएम से दो हजार रुपये के नोट नहीं निकलेंगे।  भारतीय स्टेट बैंक के सूत्र बताते हैं कि कानपुर नगर जिले में बैंक ने अपने 155 एटीएम में से 72 से 2000 के नोट रखने वाले कैसेट (बॉक्स) को हटा दिया है। इसी तरह उन्नाव में 24 में से 21 एटीएम में यह बदलाव किया गया है। इटावा, फर्रुखाबाद, कन्नौज व बांदा में आने वाले दिनों में यह बदलाव होगा। कानपुर मंडल के बाहर के कई जिलों में एटीएम में बदलाव की प्रक्रिया चल रही है। एसबीआई ने जिन एटीएम से 2000 रुपये की कैसेट हटाई है, वहां कहीं 200 की, तो कहीं 500 रुपये की कैसेट जोड़ी जा रही है।



200 और 500 के नोट वाली कैसेट बढ़ाने का निर्णय उस क्षेत्र में नकदी की जरूरत के हिसाब से लिया जा रहा है। अगले छह महीने में एसबीआई के शत प्रतिशत एटीएम में यह बदलाव संभव है। हालांकि भारतीय स्टेट बैंक के अधिकारी इस बदलाव पर आधिकारिक बयान देने से बच रहे हैं, लेकिन वे स्वीकार करते हैं कि जून 2020 तक देश के सभी एटीएम से 2000 रुपये की कैसेट हटा ली जाएगी।  

राजेंद्र अवस्थी, सचिव, नेशनल कंफेडेरशन ऑफ बैंक इंप्लाइज ने कहा कि, बैंकों के पास एटीएम में 2000 रुपये के नोट डालने के लिए पर्याप्त करेंसी नहीं होती है। बीते काफी समय से 2000 के नोट वाली कैसेट खाली ही रह जाती है। इस वजह से यह बदलाव जरूरी था। कम से कम 2000 के स्थान पर 500 के नोट तो निकल सकेंगे। इसके अलावा केंद्र सरकार के एजेंडे के मुताबिक एक दो वर्षों में मुद्रा का चलन बहुत तेजी से कम करना है। यही वजह है कि बैंकों से मुद्रा निकासी की लिमिट तय कर दी गई है। डिजिटल ट्रांजेक्शन पर जोर दिया जा रहा है। 

जमाखोरी की वजह से बंद हुई 2000 के नोट की छपाई

2000 रुपये के नोट की जमाखोरी की वजह से रिजर्व बैंक ने करीब डेढ़ साल पहले इसकी छपाई बंद कर दी थी। वर्ष 2019 की शुरुआत में 80 फीसदी 2000 के नोट न तो बैंक में थे न ही बाजार में। तभी इस बात की संभावना बढ़ गई थी कि सरकार 2000 के नोट का चलन सीमित कर देगी। उसकी बानगी अब एटीएम से कैसेट हटाने की कवायद के तौर पर देखी जा सकती है। केंद्रीय बैंक का पूरा फोकस अब सौ से ज्यादा दो सौ रुपये के नोट पर है। निकट भविष्य में न सिर्फ दो सौ रुपये की करेंसी का चलन बढ़ेगा, बल्कि शत प्रतिशत एटीएम इसके लिए रीकैलिब्रेट किए जाएंगे। रिजर्व बैंक का निर्देश है कि पांच सौ की एक गड्डी देने के बजाय 200 की दो और सौ की एक गड्डी दी जाए।


एटीएम से हटेंगे 100 के पुराने नोट

एटीएम से 100 के पुराने नोटों को भी हटाने की कवायद शुरू हो गई है। इसके लिए विभिन्न बैंकों के एटीएम रीकैलिब्रेट किए जा रहे हैं। मार्च 2020 के अंत तक सभी बैंकों को अपने 50 फीसदी एटीएम 100 के नए नोट के माफिक तैयार करने को कहा गया है।

बैंकों के सूत्र बताते हैं कि जैसे जैसे एटीएम बूथ 100 के नए नोट के लिए तैयार होते जाएंगे, पुराने नोटों का चलन कम होता जाएगा। बैंकों की शाखाओं में भी 100 के बहुत पुराने नोट हटाए जा रहे हैं। माना जा रहा है कि नए वित्तीय वर्ष में क्लीन नोट पॉलिसी के तहत हर तरह के नए नोट ही बाजार में होंगे। इसी वजह से 200 के नोट का चलन बढ़ाने के साथ ही अब 100 के नए नोटों का सर्कुलेशन तेजी से बढ़ाया जा रहा है। 200 के नोट की तरह ही जल्द ही 100 के नए नोट भी एटीएम से निकलेंगे। 

Share
LATEST NEWS
महाभारतकालीन पांडेश्वरनाथ मंदिर सावन के सोमवार को मंदिर बंद रखने का निर्णय गुरु पूर्णिमा पर गंगा में लगाई हजारो भक्तो ने डुबकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए डाइट में शामिल करें ये 10 चीजें, इन बीमारियों में भी कारगर यूपी में कोरोना के 772 नए मामले, कुल संख्या 26 हजार के पार, अबतक 773 की मौत साबन का महीना शुरू होंने से पूर्व कोरोना के संकट से श्रद्धालुओं को बचाने के लिए जिला प्रशासन ने तैयारी की शुरू यूपी में अब तक 930 टीचर बर्खास्त, 1427 बने फर्जी डिग्री से टीचर 231 ग्राम पंचायतों बारिश से पहले 600 तालाब निर्माण कार्य शुरू ट्रांसपोर्ट भाड़ा और सिंचाई महंगी होनें से सब्जियों ने बिगाड़ा रसोई का बजट नया लर्निंग डीएल बनवाना है पढ़िए रिपोर्ट, इस तारीख से शुरू होगा आवेदन कोरोना वैक्सीन का 11 शहरों में होगा ट्रॉयल , 15 अगस्त तक लांच करने की तैयारी
फर्रुखाबाद, टोटल मरीज 195 डिस्चार्ज कोरोना मरीज 116 कोरोना ऐक्टिव संख्या 72 कोरोना मरीज की मौत 07