आज दशहरे पर किया जाएगा अपराजिता देवी, शमी के पेड़ और शस्त्रों का विशेष पूजन

ज्योतिषाचार्य एस.एस. नागपाल ने बताया कि आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को विजयदशमी मनाई जाती है। मंगलवार को विजयदशमी मनाई जाएगी। श्रीराम ने लंका के राजा रावण का इस तिथि को वध किया था। इसलिए विजयादशमी बुराई पर अच्छाई के विजय के रूप में मनाते हैं।


विजयदशमी के दिन शहर के विभिन्न मंदिरों और घरों में शस्त्र पूजन होगा। शासकीय शस्त्रागारों के साथ आमजन भी आत्मरक्षा के लिए रखे जाने वाले शस्त्रों का पूजन सर्वत्र विजय की कामना के साथ करते हैं। साथ ही देश की उन्नति की आराधना भी करते हैं। राजा विक्रमादित्य ने दशहरे के दिन देवी हरसिद्धि की आराधना की थी। छत्रपति शिवाजी ने भी इसी दिन मां दुर्गा को प्रसन्न करके भवानी तलवार प्राप्त की थी। 

अपराजिता देवी का पूजन करें
विजयादशमी के दिन अपराजिता देवी, शमी और शस्त्रों का विशेष पूजन किया जाता है। अपराजिता के पूजन के लिए अक्षत, पुष्प, दीपक आदि के साथ अष्टदल पर अपराजिता देवी की मूर्ति की स्थापना की जाती है। ओम अपराजितायै नम: मंत्र से अपराजिता का, उसके दाएं भाग में जया का तथा उसके बाएं भाग में विजया का आवाहन पूजा करें। दशहरा के दिन नीलकंठ के दर्शन शुभ माना जाता है। 

शुभ मुहूर्त
विजय मुहूर्त दोपहर में 
02:21 बजे से 03:08 बजे तक। 
अपराह्न पूजा मुहूर्त दोपहर में
01: 33 बजे से 
03: 55 बजे तक।

Share
LATEST NEWS
अब आधुनिक डिवाइस से कटेगा ई-चालान, मौके पर ही जमा करा सकेंगे जुर्माना यूपी बोर्ड इंटर प्रैक्टिकल की डेटशीट जारी, देखें पूरा शेड्यूल यूपी पुलिस 49568 कांस्टेबल भर्ती रिजल्ट uppbpb.gov.in पर जारी उत्तर प्रदेश की बड़ी सिपाही भर्ती का परिणाम घोषित, मेरिट के आधार पर 2.5 गुना ज्यादा अभ्यार्थी बुलाए गए चौपाल में समस्याओं की भरमार देख डीएम भड़के पांच वर्ष से एक ही पटल पर जमे बाबू हटेंगे,सीएम की नाराजगी के बाद शुरु हुई कवायद आलू बीते दिन के मुकाबले 50 रुपये पैकेट लुड़का भाव बोलेरो और बस में भीषण टक्कर, दर्दनाक हादसे में चार की मौत, कई घायल घोटाले के विरोध में जेई संगठन ने कार्य बहिष्कार कर दिया धरना कार चालक ने लापरवाही से टक्कर लगने से वृद्ध की मौत , ड्राइवर घायल
WhatsApp CityHalchal