ग्रेटर नोएडा में अस्पताल में जन्मा अनौखा बच्चा, बच्चे को देखने के लिए अस्पताल पर भीड़ हो रही जमा

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में जिला महिला अस्पताल में एक महिला ने प्रसव के दौरान प्लास्टिक जैसे बच्चे को जन्म दिया। प्रसव के बाद ऐसे बच्चे को देखकर डॉक्टर समेत लेबर रूम में स्टाफ हतप्रभ रह गया। डॉक्टर ने कोलायड बेबी होना मानकर उसकी हालत को देखकर लखनऊ मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया। डॉक्टर के अनुसार, बच्चा प्लास्टिक की तरह था और उसकी नसें फट रही थीं, जो सांस लेने मात्र से चटक रहा था।

जहानाबाद थाना क्षेत्र के गांव गौनेरी के रहने वाले सूरजपाल की पत्नी मीना देवी को प्रसव पीड़ा होने पर सोमवार को परिजन सीएचसी ले गए। हालत नाजुक होने पर जच्चा को जिला महिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। सोमवार की रात में चेकअप करने पर सब ठीक मिला। मंगलवार की सुबह करीब साढ़े पांच बजे महिला को सामान्य तरीके से प्रसव हुआ। नवजात को देख स्टाफ हैरान हो गए। वह साधारण बच्चों की तरह नहीं था, बल्कि प्लास्टिक की तरह दिख रहा था। 

इस पर स्टाफ ने बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. कुलदीप सिंह को सूचना दी। डॉक्टर ने मौके पर जाकर बच्चे को देखा और उसे एसएनसीयू में भर्ती करा दिया। यहां भी सुधार नहीं होने पर उसका परिक्षण कराया गया। जिसमें नवजात में सामान्य बच्चे की तरह कोई लक्षण नहीं थे। बच्चे को कोलायड बेबी मानते हुए परिजनों को बुलाकर उसे लखनऊ मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया। इस तरह का बच्चा महिला अस्पताल में पहली बार हुआ है जो कौतूहल का विषय बना हुआ है। 

पीलीभीत के सीएमओ डॉ. सीमा अग्रवाल ने कहा कि जींस में गड़बड़ी होने और अनुवांशिक लक्षणों के होने से ऐसे बच्चों का जन्म होता है। ऐसे बच्चों का कहीं भी इलाज संभव नहीं होता है। खानपान में कमी और प्लास्टिक का अंश शरीर में जाना इसका कारण नहीं होता है। माता-पिता में किसी प्रकार की कमी से भी ऐसा होता है। इसके लिए दोनों को अपनी जांच करानी चाहिए।

Share
LATEST NEWS
इंजीनियर आाखिरकार ने जीत ली कोरोना से जंग लॉकडाउन में ढील खड़ी कर सकता है मुश्किल, भारत में जुलाई तक 21 लाख कोरोना केस की संभावना 50 लाख से ज्यादा वृद्धों को मिलेगी वृद्धावस्था पेंशन 8 दिन से फ्लू कैंप में मरीजों की संख्या घटी कोविड-19 के साथ साथ अब किसान टिड्डी दल से परेशान भारत के भविष्य के चिन्ता- बच्चों के दाखिले कराने से लेकर उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए तैयारियां शुरू बेरोजगार होकर लौटे भारतीय श्रमिकों को सौ फीसदी काम दिलाने के डीएम के निर्देश गांवों के तालाबों को चिन्हित कर मत्सय पालन को बढ़ावा देने की तैयार शुरू 1 जून से चलेंगी रोडवेज बसें, 30 यात्री हो सकेंगे सवार, बिना मास्क के नहीं मिलेगी एंट्री यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ बोले, कोरोना संकट को जून में नियंत्रित कर लेंगे
फर्रुखाबाद में नए मरीज 3 डिस्चार्ज कोरोना मरीज 8 कोरोना ऐक्टिव संख्या - 17 जिले में टोटल संख्या मरीज 25