50वर्षों से मनाया जा रहा करबा चौथ ब्रत जानिए कैसे


करवाचौथ का इंतजार हर सुहागिनों को ब्रेसबी से होता है। दिनभर अन्न-जल त्याग कर जब रात को पत्नियाँ सज-सँवरकर, हाथों में पूजा की थाली लिए छलनी से चाँद को निहार कर अपने पति के हाथों से पानी पीती हैं तो न केवल पत्नियों को उनके व्रत का प्रतिसाद मिलता है |


फर्रुखाबाद शहर के मोहल्ला रेलवे रोड स्थित उषा अरोरा के घर पर तीन दर्जन सिंधी समाज की महिलाएं एक साथ करती करवा चौथ व्रत का पूजन।व्रत रखने वाली महिलाओं ने बताया कि यहां पर यह सत्यवती अरोरा के समय से मनाया जा रहा है।महिलाएं सोलह श्रृंगार करने के बाद चांद का पूजन और उनको जल देती है।फिर अपने पति का चेहरा देखने के बाद व्रत तोड़ती है।

जिन महिलाओं ने पहली बार व्रत रखा है।उनका कहना था कि पहले तो डर लगा लेकिन सास और जेठानी की मदद से यह व्रत पूरा हो रहा है।जिन महिलाओं के पति बाहर नौकरी कर रहे है घर पर नहीं है।

वह महिलाएं मोबाइल से वीडियो काल करके उनसे बातचीत और चेहरा देखने के बाद व्रत खोलेगी।इस दौरान नीलम अरोरा,रेखा बजाज,लता बजाज,कोमल बचानी, स्वाती बचानी,सीमा बचानी,गरिमा,राधिका डवानी,प्रेरणा डवानी,पूनम कृपलानी,नेहा कृपलानी आदि महिलाएं मौजूद रहीं ।

Share
LATEST NEWS
WhatsApp CityHalchal