हिंदू-मुस्लिम संगठनों के प्रमुख नेताओं के मोबाइल पर नजर

Ayodhya Case : अयोध्या प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले हिन्दू-मुस्लिम संगठनों में हलचल तेज हो गई है। गोपनीय बैठकें हो रही हैं। माहौल भांपने के लिए पुलिस और खुफिया एजेंसियों ने इन संगठनों के प्रमुख नेताओं के मोबाइल नंबरों पर नजरें गढ़ा दी हैं। वे क्या बातचीत कर रहे हैं, इस पर नजर रखी जा रही है।

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। इससे पहले ही अयोध्या प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने की उम्मीद है। प्रदेशभर में दोनों संप्रदाय के धर्मगुरुओं सहित प्रमुख संगठनों की बैठकों का दौर चल रहा है। पुलिस और प्रशासन के अफसर शांति बनाए रखने की अपील कर रहे हैं। सुरक्षा व्यवस्था भी चाक-चौबंद की जा रही है। सब उपाय किए जा रहे हैं, ताकि शांति-सद्भाव बना रहे। फैसले के मद्देनजर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भी हरिद्वार में होने वाला अधिवेशन रद कर दिया है।

आरएसएस ही नहीं, दूसरे संगठनों में भी फैसले को लेकर हलचल तेज है। देशभर के तमाम हिन्दू-मुस्लिम संगठनों सहित आवाम की निगाह इस फैसले पर है। सूत्रों ने बताया, कुछ संगठनों ने इस फैसले को लेकर गोपनीय बैठक कर चर्चाएं करना शुरू कर दिया है। इन चर्चाओं पर नजर रखने के लिए पुलिस और खुफिया एजेंसियों ने प्रमुख नेताओं और पदाधिकारियों के मोबाइल नंबरों को जांच के दायरे में लिया है।

काशी में शांति बनाए रखने की अपील
पुलिस-प्रशासन ने शनिवार को परतापुर के काशी गांव में बैठक की। इसमें दोनों पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील की गई। वहीं माधवपुरम व्यापार संघ की बैठक तरंग चैंबर में हुई। इसमें कोषाध्यक्ष अरुण तिवारी ने लोगों को संबोधित किया और शांति बनाए रखने की अपील की। गांव लिसाड़ी में भी शांति समिति की बैठक की गई।

Share
LATEST NEWS
फोन के जरिये करोड़ों का चूना लगाने वाले दिल्ली के मोती नगर इलाके के फर्जी कॉल सेंटर का भाड़ा फोड़ बस और ट्रक के बीच भीषण टक्कर, 10 लोगों की मौत 10 जिलों के डीएम-एसपी से पराली जलाने की घटनाओं पर रिपोर्ट तलब शोहदों ने दो बहनों को जलाकर मारा, तीसरी की नहीं होने दे रहे शादी पटरियों पर फेंकी गई बोतलों का हो रहा गलत इस्तेमाल, जा सकती है आपकी जान एआरओ बरेली की ओर से सेना भर्ती रैली को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था संभाल ली बगैर टेक्नीशियन के चल रही है लोहिया अस्पताल की ओटी स्मृति दिवस पर कैंडेल मार्च, दी श्रद्धांजलि बूढ़ी गंगा के पुर्नजीवित को रुका काम फिर होगा चालू युवक की मौत पर परिजनों ने पोस्टमार्टम रुकवाया, हंगामा
WhatsApp CityHalchal